अस्वीकरण

विशेष सूचना

लेख सहित विविध विषयों पर प्रदर्शित रचनाओं में व्यक्त किए गए विचार अथवा भावनाएँ लेखक की मूल भावना है, ‘काव्य ज्योति’ और ‘शाद फाउंडेशन’ ऐसी किसी भी कृति पर होने वाले किसी विवाद और नकल (प्रतिलिपि अधिकार) के लिए जिम्मेदार नहीं होगी, इसका दायित्व उक्त रचना सम्बंधित लेखक का रहेगा। पुनः स्पष्ट किया जा रहा है कि व्यक्त राय-विचार सम्बंधित रचनाकार के हैं, उनसे सम्पादक मंडल का सहमत होना आवश्यक नहीं है।

Children Welfare Society for Under Privileged Children

लोकप्रिय रचनाएँ

दोनो बँधे हैं दुनियाँ की रीत में

दोनो बँधे हैं दुनियाँ की रीत में मजबूरियाँ इधर भी हैं, कुछ उधर भी दिल की...

वगुलो की चल पड़ी दुकान

वगुलो की चल पड़ी दुकान, हंस ताल छोड़कर चले गये, मरघट सी लगती सिवान, लाशों पर...

Updating…
  • No products in the cart.